×

TRENDING TAGS :

Election Result 2024

UGC New Guidelines: मनचाहे तरीके से करिये एक साल का पीजी कोर्स

UGC New Guidelines: यूजीसी यानी विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने पोस्ट ग्रेजुएट पाठ्यक्रम के लिए ये बदलाव तैयार किये हैं। यूजीससी की 3 नवंबर की बैठक में क्रेडिट फ्रेमवर्क को मंजूरी दे दी गई है।

Neel Mani Lal
Written By Neel Mani Lal
Published on: 17 Nov 2023 5:04 AM GMT
Ugc new guidelines
X

Ugc new guidelines 

UGC New Guidelines: मास्टर्स डिग्री या पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स अब एक साल में ही पूरे किए जा सकेंगे। यही नहीं, ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह की सुविधा और विषय बदलने का भी विकल्प मिलेगा। यानी अब बहुत आसानी से और मनचाहे तरीके से मास्टर डिग्री ली जा सकेगी।

यूजीसी यानी विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने पोस्ट ग्रेजुएट पाठ्यक्रम के लिए ये बदलाव तैयार किये हैं। यूजीससी की 3 नवंबर की बैठक में क्रेडिट फ्रेमवर्क को मंजूरी दे दी गई है।

क्या कहा यूजीसी अध्यक्ष ने

यूजीसी के अध्यक्ष प्रोफेसर एम. जगदीश कुमार ने बताया कि यह ढांचा छात्रों को अपने स्नातक कार्यक्रम में मेजर या माइनर के रूप में चुनी गई किसी भी स्ट्रीम में मास्टर करने की अनुमति देता है। इसके अलावा, छात्र अपनी यूजी विशेषज्ञता से असंबद्ध किसी विषय में मास्टर डिग्री भी हासिल कर सकते हैं, बशर्ते छात्र सीयूईटी-पीजी जैसी प्रवेश परीक्षा में उत्तीर्ण होकर योग्यता प्रदर्शित करें।


UGC Fellowship: रिसर्च स्कॉलर की बल्ले-बल्ले, यूजीसी ने बढ़ाई रिसर्च स्कॉलर की फेलोशिप

पहली बार ऐसा कोर्स

यूजीसी पहली बार एक साल का पीजी कोर्स ऑफर करेगा। मौजूदा दो-वर्षीय पीजी कार्यक्रम में एक वर्ष के बाद बाहर निकलने का विकल्प होगा; जो छात्र बाहर निकलने का विकल्प चुनते हैं उन्हें पीजी डिप्लोमा मिलेगा।


छात्रों को सुविधा

जगदीश कुमार ने कहा है कि यह बदलाव उन छात्रों के काम का है जिन्होंने चार साल का यूजी, तीन साल का यूजी प्लस दो साल का पीजी, या एसटीईएम विषयों में पांच साल का एकीकृत कार्यक्रम पूरा कर लिया है, ताकि वे संबद्ध क्षेत्रों में एमई और एम टेक में दाखिला ले सकें। उन्होंने कहा कि यह बहु-विषयक शिक्षा दुनिया की व्यापक समझ को बढ़ावा देती है और आलोचनात्मक सोच और समस्या समाधान कौशल को प्रोत्साहित करती है।


डबल मेजर का विकल्प

मसौदा नीति के अनुसार, स्नातक छात्र डबल मेजर का विकल्प चुन सकते हैं या उन दो विषयों में से किसी एक को चुन सकते हैं जिनमें उन्होंने प्रमुखता हासिल की है। यह उन छात्रों को भी मास्टर्स में मेजर या माइनर में से किसी एक को चुनने की अनुमति देता है जो मेजर और माइनर के साथ यूजी उत्तीर्ण करते हैं।

DDU News: मालवीय मिशन टीचर्स ट्रेनिंग सेंटर के नाम से जाना जाएगा डीडीयू का यूजीसी एचआरडी सेंटर, शिक्षकों को मिलेगा एडवांस ट्रेनिंग

क्या है मेजर और माइनर

मेजर वह विषय है जो विश्वविद्यालय में आपके अध्ययन का मुख्य फोकस होता है। जैसे कि जीव विज्ञान, पर्यावरण और व्यवसाय, स्वास्थ्य विज्ञान, भूवैज्ञानिक इंजीनियरिंग, शुद्ध गणित, मनोविज्ञान आदि। डिग्री हासिल करने के लिए छात्र जो पाठ्यक्रम लेंगे, उनमें से अधिकांश प्रमुख पाठ्यक्रम होंगे। आम तौर पर सभी छात्रों के पास एक प्रमुख विषय होता है। मेजर और प्रोग्राम शब्द अक्सर एक दूसरे के स्थान पर उपयोग किए जाते हैं।

माइनर किसी विशेष विषय या थीम में पाठ्यक्रमों का एक ग्रुप होता है जो अध्ययन के मुख्य क्षेत्र का पूरक है। माइनर विषय अध्ययन के मुख्य फोकस, यानी से संबंधित या असंबंधित हो सकता है।


उदाहरण के लिए, यदि कोई छात्र एक रिपोर्टर के रूप में अपना करियर बनाना चाहता हैं, तो वह पत्रकारिता में स्नातक के साथ राजनीति विज्ञान की पढ़ाई कर सकता है। यहां पत्रकारिता मेजर हुआ जबकि राजनीतिक विज्ञान माइनर विषय हुआ।

कई लोग उन विषयों को प्राथमिकता देना पसंद कर सकते हैं जो उनके करियर को लाभ नहीं पहुंचा सकते हैं, लेकिन उनके शौक से संबंधित हैं। उदाहरण के लिए, एक छात्र जो फिल्में देखना पसंद करता है, वह जीवविज्ञान में मेजर और फिल्म अध्ययन में माइनर कर सकता है।

Monika

Monika

Content Writer

पत्रकारिता के क्षेत्र में मुझे 4 सालों का अनुभव हैं. जिसमें मैंने मनोरंजन, लाइफस्टाइल से लेकर नेशनल और इंटरनेशनल ख़बरें लिखी. साथ ही साथ वायस ओवर का भी काम किया. मैंने बीए जर्नलिज्म के बाद MJMC किया है

Next Story