×

TRENDING TAGS :

Election Result 2024

Ship Hijack: यमनी आतंकी गुट ने भारत आ रहे जहाज को अगवा किया, इजरायल युद्ध में नया मोड़

Ship Hijack: ये जहाज बारास्ता तुर्की, भारत आ रहा था तब बीच समुद्र में हेलीकाप्टर से आये हौथी हमलावर इस पर उतरे और जहाज पर कब्जा कर लिया।

Neel Mani Lal
Written By Neel Mani Lal
Published on: 20 Nov 2023 10:31 AM GMT
Ship Hijack
X

Ship Hijack (Photo: Social Media) 

Ship Hijack: यमन के आतंकी गुट हौथी ने इजरायल युद्ध में सीधे हस्तक्षेप करना शुरू कर दिया है और नवीनतम कारनामे में उन्होंने दक्षिणी लाल सागर में एक मालवाहक जहाज ‘’गैलेक्सी लीडर’’ पर कब्जा कर लिया है। जब ये जहाज बारास्ता तुर्की, भारत आ रहा था तब बीच समुद्र में हेलीकाप्टर से आये हौथी हमलावर इस पर उतरे और जहाज पर कब्जा कर लिया।

उत्तरी यमन और उसके लाल सागर तट पर नियंत्रण रखने वाले हौथी ग्रुप ने कहा है कि यह मालवाहक जहाज इजरायली था, लेकिन इजरायल ने इसे ब्रिटिश स्वामित्व वाला और जापानी संचालित मालवाहक जहाज बताया है जिसमें कोई इजरायली नागरिक सवार नहीं था। हौथी ने एक बयान जारी कर कहा है कि जहाज में सवार लोगों के साथ "इस्लामिक सिद्धांतों और मूल्यों के अनुसार" व्यवहार किया जा रहा है।

25 लोग थे जहाज में

ऐसा माना जाता है कि ‘’गैलेक्सी लीडर’’ पर लगभग 25 लोग सवार थे। यह भी बताया जाता है कि यह आंशिक रूप से एक इजरायली व्यवसायी के स्वामित्व में था और बहामा के झंडे के नीचे नौकायन कर रहा था। इसे तुर्की से भारत के रास्ते में हौथी विद्रोहियों ने अपने कंट्रोल में कर लिया गया था। जहाज को अब यमनी बंदरगाह पर ले जाया गया है। जहाज पर कोई भी इजरायली सवार नहीं था और चालक दल के 25 सदस्य यूक्रेनी, बल्गेरियाई, फिलिपिनो और मैक्सिकन सहित कई राष्ट्रीयताओं के थे।

सार्वजनिक शिपिंग डेटाबेस के अनुसार इस जहाज के मालिक ‘’रे कार कैरियर्स’’ से जुड़े हैं जिसकी स्थापना अब्राहम "रामी" उन्गर ने की थी, जिन्हें इज़राइल के सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक के रूप में जाना जाता है। उंगर ने बताया कि उन्हें घटना के बारे में पता है। उनसे जुड़े एक जहाज में 2021 में ओमान की खाड़ी में विस्फोट हुआ था। उस समय इज़रायली मीडिया ने इसका दोष ईरान पर मढ़ा था।

अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग में अक्सर एक ही जहाज में दुनिया भर में फैली प्रबंधन कंपनियों, झंडों और मालिकों की एक सीरीज शामिल होती है।

हौथी अब इजराइल-गाजा युद्ध में घुसे

हौथी सैन्य प्रवक्ता याह्या सादी ने कहा है कि इस जहाज की जब्ती "गाजा और वेस्ट बैंक में हमारे फिलिस्तीनी भाइयों के खिलाफ जघन्य कृत्यों" के जवाब में की गयी है। सादी ने एक्स पर लिखा - अगर अंतरराष्ट्रीय समुदाय संघर्ष को बढ़ाने के बजाय क्षेत्रीय सुरक्षा और स्थिरता के बारे में चिंतित है, तो उसे गाजा के खिलाफ इजरायल की आक्रामकता को खत्म करना चाहिए।

आतंकी हरकत

आतंकवादी समूह हमास के खिलाफ युद्ध के बीच इज़राइल ने इस घटना को "आतंकवाद का ईरानी कृत्य" करार दिया है। इजरायल के प्रधान मंत्रीबेंजामिन नेतन्याहू का कार्यालय ने इस संबंध में एक बयान जारी किया, जिसमें कहा गया, यह आतंकवाद का एक और ईरानी कृत्य है जो वैश्विक शिपिंग मार्गों की सुरक्षा के साथ-साथ सहवर्ती अंतरराष्ट्रीय प्रभाव के साथ, स्वतंत्र दुनिया के नागरिकों के खिलाफ ईरान के जुझारूपन में वृद्धि का प्रतिनिधित्व करता है।

कौन हैं हौथी आतंकी?

तेहरान के सहयोगी हौथी गाजा पट्टी में लड़ रहे फिलिस्तीनी हमास आतंकवादियों के साथ एकजुटता दिखाने के लिए पहले से ही इजरायल पर लंबी दूरी की मिसाइल और ड्रोन हमले कर रहे हैं। लेकिन उनके अधिकांश मिसाइल हमले विफल रहे हैं। हौथी एक इस्लामी राजनीतिक और सशस्त्र संगठन है जो 1990 के दशक में सादा के यमनी गवर्नरेट से उभरा था। हौथी आंदोलन मुख्य रूप से जैदी शिया बल है जिसका नेतृत्व बड़े पैमाने पर हौथी जनजाति से लिया गया है।

हुसैन बदरेद्दीन अल-हौथी के नेतृत्व में, यह ग्रुप पूर्व यमनी राष्ट्रपति अली अब्दुल्ला सालेह के विरोध के रूप में उभरा। उन्होंने उन पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया और सऊदी अरब और अमेरिका द्वारा समर्थित होने के लिए उनकी आलोचना की। हुसैन ने सालेह पर यमनी लोगों[79] और यमन की संप्रभुता की कीमत पर अमेरिका को खुश करने की कोशिश करने का आरोप लगाया।

2003 में हौथिस का नारा – ‘’ईश्वर महान है, अमेरिका को मृत्यु, इज़राइल को मृत्यु, यहूदियों को अभिशाप, और इस्लाम की जीत’’ इस ग्रुप का ट्रेडमार्क बन गया है। हौथी का यमन सरकार के साथ कई बार टकराव हुआ, जिसके परिणामस्वरूप युद्धों की एक लंबी श्रृंखला और सऊदी अरब के साथ सीमा पर एक संक्षिप्त संघर्ष हुआ। जब से इजराइल ने हमास के खिलाफ अपना हमला शुरू किया है, विद्रोही समूह फिलिस्तीन के साथ एकजुटता दिखा रहा है और इजराइल के खिलाफ कई हमले कर रहा है।

Snigdha Singh

Snigdha Singh

Leader – Content Generation Team

Hi! I am Snigdha Singh from Kanpur. I Started career with Jagran Prakashan and then joined Hindustan and Rajasthan Patrika Group. During my career in journalism, worked in Kanpur, Lucknow, Noida and Delhi.

Next Story